मनरेगा योजना न्यू अपडेट 2020 |

मनरेगा  योजना न्यू अपडेट 2020


 मनरेगा  योजना महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना इसकी शुरुआत 2 अक्टूबर 2009 को की गई इसके तहत 100 दिन के रोजगार की गारंटी एवं स्वरोजगार की सोच के साथ इस योजना का क्रियान्वयन रूपरेखा तैयार कर ग्रामीण तबके में रोजगार के सुलभ अवसर प्राप्त करने हेतु प्रयास किए गए

मननरेगा योजना में 2020 में किए गए बदलाव


मनरेगा योजना में वैसे तो समय-समय पर बदलाव किए गए हैं पर 2020 में कौन अकाल के चलते हुए इसमें दिहाड़ी मजदूरी को ₹220 न्यूनतम कर दिया गया है इसको पूर्ण रूप से बैंक खाते का निर्भर कर दिया है जनधन योजना का लाभ ले रहे हैं सभी खाताधारक व मनरेगा की न्यूनतम मजदूरी ₹220 मजदूरों को सीधे जनधन खाते से अटैच कर दिया गया है |


 मनरेगा का सीधा लाभ लेने के लिए जनधन खाते की आवश्यकता


 2014 में मोदी सरकार ने आते ही सरकार की सभी योजनाओं पर कटोल कदम उठाया एवं योजना का लाभ आरती तक सीधा कनेक्शन करने के लिए जनधन खाते की शुरुआत की इसके तहत महानरेगा को भी जोड़ा गया वर्तमान में श्रमिकों का  पारितोषिक इसी खाते में समाहित कर दिया है इसलिए प्रत्येक व्यक्ति को जनधन खाते की आवश्यकता है क्योंकि सरकार ने विभिन्न सारी योजनाओं का लाभ इसी खाते से जोड़ दिया गया है इसके अधिक जानकारी के लिए अकाउंट को जनधन खाते में कैसे बदलें लिंक पर जाएं

 मनरेगा योजना का मुख्य उद्देश्य


महात्मा गांधी राष्ट्रीय रोजगार गारंटी अधिनियम मनरेगा के तहत गांव के लोगों का स्वरों की ओर पलायन रोकने के लिए एक प्रमुख कदम माना जाता है इसके तहत ग्रामीण क्षेत्रों में ही रोजगार के अवसर को बढ़ावा देकर ग्रामीण पलायन को रोकने का सबसे अच्छा प्रयास सरकार का साबित हुआ वर्तमान की परिभाषा में भी यह रोजगार सही साबित होगा जाएं एक और सभी ग्रामीण खुराना की महामारी में गांव में विस्थापित हुए हैं उन्हें रोजगार तो चाहिए गई इसके लिए मनरेगा योजना काफी हद तक लाभदायक सिद्ध होगी |


 मनरेगा योजना कोरोना महामारी में किस तरह ग्रामीण युवा का स्वरोजगार होगा 


18 दिसंबर 2019  को आई कोरोना अदा के कारण कई सारे भारतीय युवाओं एवं भारतीय लोगों के रोजगार के अवसर छीन लिए हैं या 50 दिन लोग डाउन को पूरे हो गए हैं लोग अपने-अपने गांवों को विस्थापित होने लगे हैं वहीं सरकार इन्हें फिर से रोजगार देने के लिए मां नरेगा योजना को पूर्ण रूप रेखा से चलाया जा रहा है इससे श्रमिकों जो कि इस त्रासदी में विस्थापित हुए ग्राम गांवों में उन्हें यहां पर रहकर अपने रोजगार के अवसर मिल पाएंगे इसी के तहत मोदी सरकार ने पारितोषिक बढ़ाकर 2020 कर दिया है और भुगतान भी सीधा व्यक्ति के खाते में ट्रांसफर दिया जाने लगा है इससे योजना की पार्टी पारदर्शिता और बढ़ गई

मनरेगा योजना के तहत किए जाने वाले कार्य\


  •  मनरेगा योजना में गांव में जल संरक्षण इसके दर्द तालियों की गहराई बढ़ाई जाती है एवं पुराने जल स्रोतों को साफ सफाई कर जल संरक्षण के लिए संरक्षित किया जाता है
  • इसी योजना के तहत सूखे की रोकथाम के लिए जो भी सरकार आदेश जारी करती है उसी अनुसार वृक्षारोपण एवं मृदा स्क्लर्न को रोकने के लिए प्रयास किए जाते हैं
  •  बाढ़ नियंत्रण के लिए योजना के तहत क्षेत्र में मेड का निर्माण किया
  • भूमि विकास के कार्यों का निर्माण इसी योजना के तहत किया
  •  लघु सिंचाई के नए स्रोतों का निर्माण
  •  ग्रामीण संपर्क सड़क निर्माण
  •  एवं मनरेगा के तहत राज्य और केंद्र सरकार के सलाह अनुसार जो भी कार्य सुनिश्चित किया जाता है उसका किसी योजना में किरण भी कराया जाता है


 यूपी में छत्तीसगढ़ में विशेष रुप से 100 दिन की जगह 150 दिन की दिन मजदूरी


मनरेगा योजना के तहत छत्तीसगढ़ में विशेष रूप से 100 दिन की जगह 150 दिन अर्थात  6 महीने के रोजगार की गारंटी सरकार ने सुनिश्चित की है इसमें 100 दिन केंद्र सरकार वहन करेगी एवं 50 दिन राज्य सरकार यह का यह काफी हद तक लोगों को पलायन को रोकने में कारगर साबित होगा और राज्य सरकार की इस पहल से अन्य राज्यों में भी इस तरह की डाल कर आत्मनिर्भर भारत की परिकल्पना को साकार किया जाएगा


मनरेगा योजना में रोजगार की गारंटी कैसे ?


 मनरेगा योजना में वयस्क व्यक्ति आवेदन करता है उसके आवेदन के 15 दिन के भीतर उसे रोजगार देने की गारंटी दी जाती है नहीं देने पर एक चौथाई 30 दिन का 30 परसेंट 30 दिन बाद 50% बेरोजगारी भत्ता सरकार वहन करेगी
 इससे व्यक्ति की रोजगार की गारंटी सुनिश्चित हो जाती है उसे मिनिमम मानदेय हमेशा के लिए जिम्मेदार सरकार की ओर से हो जाती है इससे व्यक्तियों का पायल पलायन गांव से रुकने लगा है एवं सरकार ने नए नियमों के साथ और इस योजना को पूर्ण रूप से पारदर्शी एवं लोगों के लिए हितकारी बना दिया है

 योजना का पारिश्रमिक किस प्रकार मिलेगा


 इस योजना का पारिश्रमिक व्यक्ति के खाते में दिया जाता था इस योजना की शुरुआत में पारिश्रमिक नगद भुगतान भी किया गया पर केंद्र सरकार में मोदी मोदी सरकार आने से इस योजना में अभूतपूर्व चेंज किया गया जिसके तहत व्यक्ति की जनधन खाते की शुरुआत की कर उसी खाते में सारी सारी योजनाओं का लाभ दिया जाने लगा और वर्तमान में यह कारगर साबित हुआ

नरेगा जॉब कार्ड लिस्ट 2020


 नरेगा जॉब कार्ड में नाम अनिवार्य होना चाहिए इसके तहत आपको व्यस्क होने का प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना पड़ेगा एवं इसके लिए आधार कार्ड मात्र की आवश्यकता है आपको जॉब कार्ड अप्लाई करने के लिए नजदीकी पंचायत केंद्र पोर्टल पर जा सकते हैं जॉब कार्ड बनाने के लिए नजदीकी पंचायत केंद्र पर जाकर फॉर्म भरा जाता है जिसके तहत पंचायत आपको 100 दिन के रोजगार की गारंटी के साथ जॉब कार्ड अवेलेबल कराती है

 मनरेगा को लेकर वित्त मंत्री सीतारमण द्वारा नए पैकेज में के घोषणा


 हमारे देश में वित्त मंत्री सीतारमण ने 20 लाख करोड़ के पैकेज की घोषणा के द्वितीय चरण को 16 मई गुरुवार को विस्तृत रूप से जानकारी दे दी गई है इसके तहत कोरोना काल को देखते हुए एवं प्रवासी मधु के विस्थापित हुए लोगों को रोजगार के अवसर में बढ़ोतरी कर 14 पॉइंट 6 करोड़ लोगों को कार्य दिवस रोजगार दिया गया है एवं न्यूनतम मजदूरी को ₹182 से बढ़ाकर ₹202 कर दिया है

 13 मई 2020 तक प्रवासी मजदूरों के लिए रोजगार के लिए 10,000 करोड़ का पैकेज मां नरेगा योजना के तहत सुनिश्चित किया गया है इसके तहत लोगों को रोजगार के अधिक अवसर प्राप्त होंगे एवं विस्थापित लोगों को जीवन यापन में मनरेगा योजना बहुत ही कामगार साबित होगी और लोगों को ग्रामीण क्षेत्र में फिर से बचने के लिए एक न्यू का पत्थर साबित होगी

No comments: