कोरोना से निपटने के लिए भारत सरकार के प्रयास

 कोरोना से निपटने के लिए भारत सरकार के प्रयास


 कोराना से निपटने के लिए वर्तमान बीजेपी सरकार ने कई सारे अच्छे कदम निभाए आज देखने को मिला है कि जागरूकता ही सबसे बड़ा हत्यार सिद्ध हुई है कि बीमारी को कम से कम फैलाने में भारतीय नागरिकों की जागरुकता और सोशल मीडिया के माध्यम से लोगों तक किस प्रकार की बीमारी फैल रही है और इसके बचाव के उपाय को लोगों तक आसानी से पहुंचा सके इसके लिए सरकार ने सोशल मीडिया का काफी हद तक जनहित में उपयोग किया है|
कोरोना



 वहीं सरकार ने गरीब एवं मजदूर वर्ग के लिए काफी सारी योजनाओं का आगाज किया है जिसके तहत किसान सम्मान निधि में प्रतिवर्ष किसानों को 6000 वार्षिक अनुदान देने का निश्चय किया है एवं कोरोना टाइम में और कोरोना समय में 2000 रुपए किसानों के खाते में सीधे ट्रांसफर किए हैं तथा जनधन खाताधारकों को हजार रुपे प्रतिमाह सीधे खाते में ट्रांसफर किए जा रहे हैं यह सरकार की गरीबों के प्रति वेदना का सबसे बड़ा उदाहरण है कि लोगों की भावनाओं को ध्यान में रखते हुए भारत सरकार ने जनधन खाते के माध्यम से लोगों तक जनजीवन को सहज करने के लिए  नकद राशि का भुगतान काफी हद तक लोगों के लिए मददगार साबित हुआ |








 वहीं सरकार ने उज्जवला योजना में 3 माह गैस सिलेंडर फ्री कर अतिरिक्त भार को कम किया है इससे लोगों को इस आपदा काल में काफी सा सारा योगदान मिला है |


 कोराना को लेकर सरकार के कड़े फैसले


1 .लोकडाउन 


   lockdown जो कि सरकार का सबसे बड़ा फैसला था कि भारत को लोग डाउन के माध्यम से पूर्णिमा मारी को फैलने से रोका जाए ताकि इस प्रकार की त्रासदी को ग्रामीण परिवेश में बढ़ने से रोकने के लिए सरकार ने यह फैसला लिया कि भारत को लोग डाउन कर दिया जाए |

2.  अंतरराष्ट्रीय व्यापार प्रतिबंध


अंतरराष्ट्रीय आयात निर्यात के व्यापार को कोरोना काल में पूर्णतया बंद कर दिया गया यह सरकार का बहुत बड़ा फैसला होता है जिसे भारत के परिपेक्ष में और भारत को इस बीमारी से बचाए रखने के लिए यह कठोर फैसला भी सरकार द्वारा लिया गया


 3 .अंतरराष्ट्रीय व राष्ट्रीय उड़ानों पर पूर्णतया प्रतिबंध


 अंतरराष्ट्रीय वह अंतर राज्य  उड़ानों पर पूर्णतया प्रतिबंध लगा दिया गया प्रथम राष्ट्रीय कोरोना के बारे में जानकारी के अभाव में यह कदम थोड़ा पहले उठाया जाता तो शायद आज भारत में एक भी कोरोना पॉजिटिव नहीं होता |


4 . राष्ट्रीय राजमार्ग सभी टोल नाके बंद


Lockdown  के चलते राष्ट्रीय मार राजमार्गों को भी पूर्णतया प्रतिबंधित कर दिया गया जिससे कि कोरना को फैलने से आसानी से रोका जाए मगर इसी बीच श्रमिक मजदूरों ने पैदल चलकर कई किलोमीटर की यात्रा पूरी की है इसी वजह से कोरोना  महामारी का वर्तमान स्वरूप हमें देखने को मिला है यदि सरकार इन प्रवासी मजदूरों के लिए पुख्ता इंतजाम किए जाते तो शायद इसे फैलने से रोका जाता|


5 . कोरना काल में डॉक्टरों एवं कर्मचारियों के लिए 50,00,000 के बीमा क्लेम की घोषणा|


कोरोना काल में डॉक्टरों एवं नर्सिंग कर्मियों के लिए सरकार ने यह कर्मी के लिए भारत सरकार ने 50,00,000 रुपए के आर्थिक प्रोत्साहन की घोषणा की ताकि Corona  योद्धाओं के लिए डट कर काम करने में सहायक सिद्ध होती है |


6. आत्मनिर्भर भारत के निर्माण के लिए 20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज की घोषणा |


 वर्तमान बीजेपी सरकार ने कोर ने त्रासदी से अर्थव्यवस्था को ऊपर उठाने के लिए  आत्मनिर्भर  अभियान की शुरुआत की जिसके तहत सरकार ने 20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज की घोषणा की है जिसमें लघु एवं कुटीर उद्योगों को एवं कृषि यंत्रों एवं सभी प्रकार के अर्थव्यवस्था के अधरों के लिए लोन के आधार पर ऋण देने की व्यवस्था की है लोगों को अपने रोजगार एवं व्यवसाय सर्जन के लिए बिना गारंटी के लोन देकर फिर से भारत को खड़ा करने में मदद मिलेगी |



कृषि उपज रहन ऋण योजना  | Krishi upaj Rangeen Yojana 2020




No comments: